सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

असम से आयी 50 सदस्यीय जनप्रतिनिधि की टीम ने ग्राम पंचायत के विकास कार्यों की जानी हकीकत

कछौना, हरदोई। रविवार को 50 सदस्य जनप्रतिनिधियों की टीम ने विकासखंड कछौना की ग्राम सभा हथौड़ा व पुरवा में कराए गए विकास कार्यों की जमीनी हकीकत को जाना। ग्राम प्रधानों का प्यार व सम्मान पाकर गदगद हो गए। पुरवा के ग्राम प्रधान व ग्राम सदस्यों ने हजारों किलोमीटर की दूरी तय कर असम राज्य के जनप्रतिनिधियों को कछौना जमीन पर पहुंचने पर जोरदार स्वागत किया।

खंड विकास अधिकारी प्रमोद अग्रवाल ने गांव के विकास कार्यों के बारे में विस्तृत रूप से बताया, कैसे ग्रामीणों व एचसीएल फाउंडेशन व विभागीय अधिकारियों के निर्देश में गांव को एक अलग पहचान मिल रही। अब ग्रामीणों को अपने आवश्यक कार्य के लिए दूर नहीं जाना पड़ता है। डिजिटल युग में ग्राम सभा के कदमताल से एक छत के नीचे सभी आवश्यक सेवाएं मिल रही हैं। न्यूनतम शुल्क देने पर ग्रामीणों को फोटोकॉपी, टाइपिंग, परीक्षा प्रवेश पत्र, ऑनलाइन आवेदन, इंटरनेट, ईमेल, जाति प्रमाण पत्र, निवास, जन्म व मृत्यु प्रमाण पत्र, विकलांग प्रमाण पत्र, छात्रवृत्ति के लिए आवेदन, पेंशन फार्म, परिवार रजिस्टर की नकल, खतौनी आदि सुविधाएं मिल रही हैं। ग्राम सचिवालय में रोस्टर के अनुसार ग्राम सचिव, लेखपाल, एएनएम, अशाबहू, बीट सिपाही, विभागीय कर्मी, सप्ताह में एक दिन भर जनसुनवाई करते हैं। जिससे ग्रामीणों की समस्याओं का निराकरण गांव पर ही हो जाता है। ग्राम सभा में सीसीटीवी कैमरा लगाए गए। जिससे ग्राम सभा में हो रही गतिविधियों पर ग्राम सभा की पैनी नजर रहती है। पूरे गांव में सूचना पहुंचने के लिए माइक लगाए गए हैं। जिससे पूरे ग्राम को अलाउंस के बाद सूचना मिल जाती है। गांव की बैठक की सूचना और आवश्यक सूचनाएं की जानकारी दी जाती है। ग्राम सचिवालय प्रांगण में सामुदायिक पुस्तकालय संचालित किया जा रहा है। जिसमें दैनिक समाचार पत्र, पत्रिकाएं, प्रतियोगिता संबंधित किताबे, सप्ताहिक किताबें उपलब्ध है। जिनका ग्रामीण युवा, बुजुर्ग, लाभ उठा रहे हैं। जिससे गांव में शिक्षा का माहौल बना है। गांव की साक्षरता दर 90% है। ग्राम सभा में दुग्ध उत्पादन के लिए बनासकांठा जिला सहकारी दुग्ध संघ लिमिटेड की तरफ से पुरवा दुग्ध उत्पादन एसोसिएशन के सचिव छोटेलाल मौर्य द्वारा संचालित की जा रही है। जिससे पशुपालकों उनके दूध के उत्पादन का सही मूल्य मिल रहा है। ग्राम सभा के एक व्यक्ति रोजगार के साथ पशुपालकों के जीवन में परिवर्तन हुआ है। जन प्रतिनिधि मंडल ने सचिव से दूध डेयरी के बारे में प्रश्न पूछ कर जानकारी ली। 4 वर्ष में उनके जीवन में क्या बदलाव आया, सचिव छोटे लाल मौर्य ने सभी को दूध व्यवसाय की जानकारी दी। इसके बाद जनप्रतिनिधि मंडल सामुदायिक संचालित पेयजल परियोजना से निर्मित पानी की टंकी को देखा, जो पूरे ग्राम वासियों को स्वच्छ पेयजल मुहैया करा रही है। इससे लोगों का स्वास्थ्य अच्छा हुआ है। पानी से होने वाली बीमारियों से निजात मिल रही है। ग्राम वासियों की पेयजल समिति द्वारा पानी की टँकी संचालित की जा रही है।

जनप्रतिनिधि मंडल ने तारीफ करते हुए कहा सरकार की महत्वकांक्षी योजना जल मिशन के अंतर्गत हर घर जल के सपने को आपने पहले साकार कर दिया। 392 परिवारों को स्वच्छ पेयजल मिल रहा है। ग्रामसभा में जल संचयन के लिए अमृत सरोवर का निरीक्षण किया। वहीं पर लगी सेल्फी प्वाइंट आई लव पुरवा आकर्षण का केंद्र रहीं, जहां पर जनप्रतिनिधियों ने सेल्फी ली। तालाब के किनारे वृक्षारोपण किया गया है। सुबह व सायं ग्रामीणों को टहलने की भी सुविधा है। इसके बाद प्राथमिक विद्यालय पुरवा टीम पहुंची, वहां पर नौनिहालों को शिक्षा स्मार्ट क्लास में दी जा रही है। नौनिहाल क्लास में प्रोजेक्टर के माध्यम से शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं।

कायाकल्प के माध्यम से विद्यालयों में आमूलचूल परिवर्तन हुआ है। सरकारी स्कूल प्राइवेट स्कूलों को मात दे रहे हैं। जनप्रतिनिधियों ने गांव में बुजुर्ग लोगों के साथ चारपाई पर बैठ कर बातें भी की। पुरुष व महिला प्रतिनिधिमंडल ने बुजुर्गों के पैर छूकर शिष्टाचार का परिचय दिया। बुजुर्ग लोगों ने खूब आशीर्वाद दिया। इस दौरान पूर्व ग्राम प्रधान प्रतिनिधि अवधेश गुप्ता ने प्रतिनिधिमंडल को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। वर्तमान ग्राम प्रधान व पूर्व ग्राम प्रधान मिलकर गांव के विकास में भागीदारी बन रहे। यह साझा तस्वीर भी नजर आई। गांव में कराए जा रहे विकास कार्यों को बारीकी से देखा, प्रतिनिधिमंडल ने कहा यह गांव की तस्वीर प्रतिदिन होनी चाहिए, यह नहीं जब कोई गांव को अधिकारी, मेहमान आए तभी, सही मायने में गांव स्वराज का सपना महात्मा गांधी का पूरा होगा।

इस अवसर पर 50 सदस्य टीम के नेतृत्व असम के अधिकारी उदित राज ब्रह्मा व मुद्र पवन मेडी कर रहे थे। प्रदेश सरकार से पंचायत राज्य प्रशिक्षण संस्थान के प्रतिनिधि मनीष कुमार मिश्रा, एचसीएल के अधिकारी कृति करण चन्दररानी, एचसीएल हेड योगेश कुमार, एचसीएल टीम, जिला पंचायत राज अधिकारी विनय कुमार सिंह, खंड विकास अधिकारी प्रमोद अग्रवाल, एडीओ पंचायत व सचिव संतोष कुमार, सचिव गण ग्राम प्रधान छविनाथ मौर्य, राजस्व कर्मी अनिल शुक्ला, पूर्व ग्राम प्रधान प्रतिनिधि अवधेश गुप्ता सहित विभागीय कर्मी, ग्राम सदस्य व ग्रामीण मौजूद रहे।

रिपोर्ट – पी०डी० गुप्ता