कोथावाँ प्रा०वि० का हाल, बच्चों को दूध और फल नहीं दे रहे जिम्मेदार

भारत नेपाल में 523 परियोजनाओं में 459 परियोजना कर चुका पूरी

भारतीय दूतावास के उप प्रमुख नामग्या सी. खम्पा ने रविवार को नेपाल के दारचुला, टिंकर, खलंगा में ‘श्री मोती महिला संघ प्राथमिक विद्यालय’ के एक नए भवन का उद्घाटन किया। भवन का निर्माण भारत सरकार द्वारा दिए गए 1.27 करोड़ की वित्तीय सहायता से किया गया है।

भारत-नेपाल विकास सहयोग के तहत स्कूलों का किया गया निर्माण।

1960 में स्थापित स्कूल लंबे समय से गुणवत्तापूर्ण प्राथमिक स्तर की शिक्षा प्रदान कर रहा है। इस स्कूल में पढ़ने वाले ज्यादातर छात्र दारचुला जिले के हाशिए के तिनकारी और भूटिया समुदाय से हैं। वर्तमान में स्कूल में 391 छात्र रजिस्टर्ड हैं, जिनमें से 50 प्रतिशत लड़कियां हैं।

इसी तरह दूतावास के उप प्रमुख खम्पा ने भारत-नेपाल विकास सहयोग के तहत भारत सरकार द्वारा किए गए 2.33 करोड़ नेपाली रुपये की वित्तीय सहायता निर्मित दारचुला में महाकाली -7, धाप में ‘श्री मलिकार्जुन मॉडल सेकेंडरी स्कूल’ के एक नए भवन का भी उद्घाटन किया।

यह स्कूल 1966 में स्थापित किया गया था और 1984 में माध्यमिक स्तर पर अपग्रेड किया गया था। स्कूल सुदूर पश्चिमी क्षेत्र में स्थित है। मौजूदा बुनियादी ढांचा स्कूल में पढ़ने वाले छात्रों को समायोजित करने के लिए अपर्याप्त था।

दूतावास द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि ‘भारत-नेपाल विकास सहयोग’ के तहत बनाया गया नया स्कूल भवन और दो मंजिला इमारत ग्रामीण क्षेत्र में सीखने के लिए बेहतर माहौल तैयार करेगी और जिले में शिक्षा के विकास में योगदान देगी।

इन परियोजनाओं को भारत सरकार और नेपाल सरकार के बीच एक समझौते के तहत एक उच्च प्रभाव सामुदायिक विकास परियोजना (एचआईसीडीपी) के रूप में लिया गया था, जिसे जिला समन्वय समिति, दारचुला और महाकाली नगर पालिका, दारचुला द्वारा कार्यान्वित किया गया था।

वर्ष 2003 से, भारत ने नेपाल में 523 एचआईसीडीपी को हाथ में लिया है और 459 परियोजनाओं को पूरा किया है, जिनमें से 32 सुदुरपशिम में हैं, जिनमें दारचुला जिले में 6 शामिल हैं। इसके अलावा, भारतीय दूतावास ने दारचुला जिले में विभिन्न स्वास्थ्य पदों और गैर सरकारी संगठनों को 5 एम्बुलेंस और o1 स्कूल बस उपहार में दी है।

(रिपोर्ट: शाश्वत तिवारी)