संजय सिंह, सांसद, आप ने पेयजल एवं स्वच्छता मिशन पर उठाए सवाल! | IV24 News | Lucknow

टोक्यो-ओलिम्पिक में भारत की मुक्केबाज लवलीना ने ‘काँस्यपदक’ पर अधिकार किया; अब निगाहें स्वर्णपदक पर

★ आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय

भारत की मुक्केबाज़ लवलीना बोरगोहेन ने ६९ किलोग्राम भारवर्ग में प्रभावकारी प्रदर्शन करते हुए, सेमी फ़ाइनल में आज (३० जुलाई) प्रवेश कर लिया है। इससे पूर्व उन्होंने २७ जुलाई को प्री०-क्वार्टर फ़ाइनल में जर्मनी की अनुभवी मुक्केबाज़ और अपने से १२ वर्ष बड़ी नेदिन एपेट्ज को एक संघर्षपूर्ण मुक़ाबले में ३-२ से पराजित कर क्वार्टर फ़ाइनल में प्रवेश किया था।

इस प्रकार लवलीना ‘काँस्यपदक’ पर अधिकार कर चुकी हैं और फ़ाइनल के लिए सफ़र तय करनेवाली हैं। अब लवलीना रजत और स्वर्णपदक की ओर एक पग बढ़ा चुकी हैं लवलीना ने क्वार्टर फ़ाइनल के मुक़ाबले में चीनी ताइपे की पूर्व-विश्वचैम्पियन मुक्केबाज़ चिन चेन को ४-१ से पराजित करते हुए, काँस्यपदक पर अधिकार कर लिया है। इस प्रकार अब वे रजत और स्वर्णपदक की होड़ में शामिल हो चुकी हैं।

उल्लेखनीय है कि लवलीना ओलिम्पिक-खेलप्रतियोगिता में पहली बार भाग ले रही हैं। नौ सदस्यीय भारतीय दल में से अन्तिम आठ खिलाड़ियों में शामिल होनेवाली एकमात्र लवलीना रहीं।

हम देशवासी, लवलीना को स्वर्णपदक मिले, कामना करते हैं।

(सर्वाधिकार सुरक्षित– आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय, प्रयागराज; ३० जुलाई, २०२१ ईसवी।)