कोथावाँ प्रा०वि० का हाल, बच्चों को दूध और फल नहीं दे रहे जिम्मेदार

खंड शिक्षा अधिकारी कछौना ने बनाए भ्रष्टाचार के अपने नियम

कछौना (हरदोई):- खंड शिक्षा अधिकारी कछौना ने संकुल प्रभारी नियुक्ति में नियमों को ताक पर रखकर सह-संकुल प्रभारी नियुक्त कर दिए गए । बीएसए इस जानकारी से अनजान हैं जबकि पूर्व में भी बीएसए शासनादेश के विपरीत कार्य कर रहे न्याय पंचायत प्रभारी पर ठोस कार्यवाही की थी । नियमानुसार संकुल प्रभारी का कार्य केंद्रीय विद्यालय के प्रधानाध्यापक को ही करने का प्रावधान है । उक्त आदेश के इंटर विद्यालय का अध्यापक द्वारा संकुल प्रभारी का कार्य करते पाया जाएगा उसके खिलाफ विभागीय कार्यवाही की जाएगी।

एडी बेसिक भी इस मामले में स्पष्ट शासनादेश जारी कर चुके हैं। शासनादेश के तहत जूनियर स्कूलों के हेड मास्टर को ही प्रत्येक न्याय पंचायत से एक संकुल प्रभारी बनाना है। शासनादेश में स्पष्ट है किसी भी प्राइमरी स्कूल और उसे न्याय पंचायतों के शिक्षकों को संकुल प्रभारी नहीं बनाया जा सकता परंतु खंड शिक्षा अधिकारी कछौना ने नियमों को ताक पर रखकर एक नया ही पद सह-समन्वयक प्रभारी का सृजित कर दिया है। न्याय पंचायत कछौना का सह-समन्वयक के प्रभारी प्राथमिक विद्यालय कछौना द्वितीय शैलेंद्र कुमार सिंह व न्याय पंचायत गौसगंज के प्राथमिक विद्यालय धुरपुरा के कृष्ण कुमार को सह-समन्वयक प्रभारी नियुक्त कर दिया है, जो विद्यालय में अध्यापन कार्य से कोसों दूर रहते हैं और सदैव ब्लॉक संसाधन केन्द्र पर ही डटे रहते हैं । यह आचरण के विपरीत दूसरे विद्यालयों में क्या उदाहरण प्रस्तुत करेंगे।
इस संबंध में बेसिक शिक्षा अधिकारी ने कहा कि मुझे इस संदर्भ में कोई जानकारी नहीं है, वही खंड शिक्षा अधिकारी कछौना भी कोई स्पष्ट उत्तर नहीं दे सके।

रिपोर्ट- पी०डी०गुप्ता