कोथावाँ प्रा०वि० का हाल, बच्चों को दूध और फल नहीं दे रहे जिम्मेदार

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

किशोर अजनानी की ‘सौ बात की एक बात’ का सच
ये हैं, किशोर अजनानी। ये वही साहिब हैं, जो समाचार-चैनल ‘News 18 इंडिया’ पर प्रतिरात्रि-दिन ‘सौ बात की एक बात’ के अन्तर्गत विविध प्रकार के समाचार सुनाते हैं। नीचे अंकित है :—
‘सौ बात की एक बात’

किशोर अजनानी को यही नहीं मालूम कि ‘सौ बात की एक बात’ व्याकरण की दृष्टि से अशुद्ध है। इससे पूर्व भी हम इसे सार्वजनिक कर चुके हैं; परन्तु किशोर अजनानी प्रमादावस्था में हैं।

ज्ञातव्य है कि ‘सौ’ बहुवचन का शब्द है, अत: ‘सौ’ के साथ जुड़ा हुआ शब्द भी बहुवचन का होगा। इस प्रकार ‘सौ बात की एक बात’ के स्थान पर ‘सौ बातों की एक बात’ होगा।
उदाहरणार्थ :—
अशुद्ध प्रयोग : मेरे पास ‘सौ रुपया’ है।
शुद्ध प्रयोग : मेरे पास ‘सौ रुपये’ हैं।

किशोर अजनानी! अब भी सुधार कर लें।