ब्लॉक कोथावां में वोटर लिस्टों की बिक्री के नाम पर हो रही अवैध वसूली

गुरुजी ने बदल दी विद्यालय की तस्वीर, वॉल पेंटिंग के माध्यम से ट्रेन के डिब्बे जैसा बना डाला स्कूल 

फ़ेसबुक पर देखकर बना दिया स्कूल को मॉडल

                हरदोई– कवि और गीतकार दुष्यन्त की पंक्तियाँ “कौन कहता है आसमां में सूराख नहीं होता, एक पत्थर तो तबीयत से उछालों यारों” इन स्कूल मास्टर पर कितनी सटीक बैठती हैं जिन्होंने हरदोई के शाहाबाद विकासखंड के प्राथमिक विद्यालय परियल को वॉल पेंटिंग के माध्यम से ट्रेन के डिब्बे जैसा बनाकर बच्चों को एक नयी दुनियाँ का आभास करा दिया । प्रधानाध्यापक कृष्ण गोविंद सिंह ने अपने जुनून से ऐसी ही मिसाल पेश की है जिसने विद्यालय की तस्वीर बदल कर रख दी है । बिना विभागीय मदद के उन्होंने मॉडल विद्यालय बनाया है जिसमें छात्र अपने आप चले आते हैं और पढ़ाई करते हैं।
               जिला मुख्यालय से करीब 40 किलोमीटर दूर इस प्राथमिक विद्यालय की इमारत काफी पुरानी है। प्रधानाध्यापक कृष्ण गोविंद सिंह ने सोशल मीडिया फेसबुक पर एक शानदार तस्वीर विद्यालय की देखी तो अपने विद्यालय को आधुनिक बनाने का संकल्प लिया। उन्होंने वही फ़ोटो आने साथी अध्यापकों को दिखाई और सहयोग की बात कही। जिसके बाद इस तस्वीर को विद्यालय पर उकेर दिया। अध्यापकों के सहयोग से कृष्ण गोविंद सिंह ने अपना देखा सपना आखिर पूरा कर लिया ।
               इस विद्यालय पहुंचते ही विद्यालय भवन अपनी तरफ आकर्षित करने लगता है । पूरे विद्यालय भवन पर पेंट के माध्यम से बनवाई गई चित्रकारी से बच्चों का मन स्कूल में लगता है। इस स्कूल को एक ट्रेन के डिब्बे की तरह से बनाया गया है जिसे देखकर यह एहसास होता है स्कूल नहीं अपितु रेलगाड़ी का डिब्बा है । डिब्बे में बैठे बच्चे भी अच्छी तरह से पढ़ाई करते नजर आते हैं । अध्यापकों का कहना है अगर ऐसे ही सभी विद्यालय बन जाएं तो बच्चे अपने आप ही स्कूल पढ़ने जाएंगे। यहां क्रिएटिव माहौल है जिससे स्कूल से दूर भागने के बजाए बच्चे स्कूल ज्यादा आना पसन्द करते है। इस मामले में बीएसए हेमंत राव कहते है कि अध्यापकों का प्रयास बहुत अच्छा है।
url and counting visits