सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

आरक्षी पुलिस भर्ती परीक्षा-2009-2010 के हजारों अभ्यर्थियों को कब मिलेगा न्याय- आशीष तिवारी

लखनऊ : आरक्षी पुलिस भर्ती परीक्षा-2009-10 के अभ्यर्थियों को अभी तक इंसाफ नहीं मिला है, उच्चतम न्यायालय के आदेश के बावजूद भी अभी तक उनको न्याय नहीं मिल सका है। जिसको लेकर आरक्षी पुलिस भर्ती के बड़ी संख्या में पीड़ित अभ्यर्थियों पिछले किया दिनों से इको गार्डन में धरना स्थल पर अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे है। पुलिस भर्ती की लिखित परीक्षा के गलत प्रश्नाें के कारण नियुक्ति से वंचित अभ्यर्थियों की समस्या जानने के लिए आज राष्ट्रीय लोकदल के वरिष्ठ नेता, आशीष तिवारी ने धरनास्थल पर इन लोगो से मुलाक़ात की।

आशीष तिवारी ने इस विषय पर बोलते हुए बताया कि उच्चतम न्यायालय के आदेश के बावजूद आरक्षी पुलिस भर्ती परीक्षा 2009-10 के अभ्यर्थियों को अब तक नियुक्ति नहीं मिल सकी है। सरकार इस अतिसंवेदनशील, न्याय से जुड़े विषय को गंभीरता से नहीं ले रही है। उन्होंने कहा कि यूपी की सरकार अपराधियों को छोड़कर अब इंसाफ पर ही बुलडोजर चलाने लगेगी, तो न्याय व्यवस्था से जनता का विश्वास उठने लगेगा। लोग मांगने की बजाय छीनने लगेंगे। इससे प्रदेश में अपराध और अपराधियों का बोलबाला हो जाएगा।

शुक्रवार को नियुक्ति से वंचित पुलिस भर्ती के अभ्यर्थियों की रालोद के वरिष्ठ नेता, आशीष तिवारी ने न सिर्फ उनकी पूरी बात सुनी, बल्कि इस मामले को पूरी शक्ति के साथ फूल समर्थन देने का आश्वासन दिया है।

राष्ट्रीय लोकदल नेता आशीष तिवारी ने कहा कि भर्ती की लिखित परीक्षा में छह प्रश्न गलत थे, जिसके क्रम में गलत अंक आवंटित किए गए थे। गलत अंकों की वजह से भर्ती से वंचित हो रहे अभ्यर्थी मामले को लेकर न्यायालय पहुंचे। वहां से उन्हें 06 अक्टूबर 2017 को ही न्याय मिल गया और न्यायालय ने उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती बोर्ड को इसका अनुपालन करने का निर्देश दे दिया।
आशीष तिवारी ने कहा कि यह सरकार अब इतनी ज्यादा निरंकुश हो चुकी है कि यह माननीय उच्च न्यायालय के आदेश को नहीं मान रही है। आज लखनऊ में एकत्र हुए अभ्यर्थी ने बताया कि हम लोग शासन को लगातार प्रत्यावेदन पर प्रत्यावेदन दे रहे हैं, लेकिन प्रदेश सरकार ने अभी तक इस विषय पर कोई कार्यवाही नहीं की है। योग्य और भर्ती की पात्रता वाले अभ्यर्थियों को नियुक्ति न दिया जाना न्याय व्यवस्था का अपमान है। सरकार को तत्काल इस पर कार्रवाई सुनिश्चित करनी होगी। मौके पर पुलिस भर्ती परीक्षा-2009 के दर्जनों अभ्यर्थी मौजूद थे।