बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना से हुआ लिंगानुपात में काफी सुधार

केन्‍द्रीय महिला और बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने चंडीगढ़ में सखी सुरक्षा एडवांस डी एन ए फॉरेन्सिक लैब्रोटरी का शिलान्‍यास किया। इस अवसर पर उन्‍होंने कहा कि महिलाओं और बच्‍चों के प्रति यौन अपराध के मामलों को सुलझाने तथा तेजी से न्‍याय दिलाने में यह प्रयोगशाला बहुत उपयोगी होगी। बेटी को सशक्‍त बनाने के लिए, महिलाओं को सशक्‍त बनाने के लिए सरकार के द्वारा बहुत सारे प्रयास किए गए। उसमें वन स्‍टॉप सेंटर की शुरूआत की गई। वन स्‍टॉप सेंटर के माध्‍यम से एक ही स्‍थान पर हिंसा उत्‍पीड़न की शिकार की जो महिलाएं होती हैं उनको वहीं पर पुलिस की सहायता, कानूनी सहायता, चिकित्‍सा सहायता, मनोवैज्ञानिक परामर्श और आवश्‍यकता पड़ने पर मानसिक सुधार गृह भेजना।

महिला और बाल विकास राज्‍य मंत्री वीरेन्‍द्र कुमार ने कहा हैकि सरकार ने देश में महिला और बच्‍चों के कल्‍याण के लिए बहुत सारे काम किये हैं। उन्‍होंने कहा कि सरकार ने बालिकाओं के अस्तित्‍व, सुरक्षा और शिक्षा के लिए बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना लागू की है। केन्‍द्रीय मंत्री डॉ0 वीरेन्‍द्र कुमार ने कहा कि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना से लिंगानुपात में काफी सुधार हुआ है। उन्‍होंने कहा कि कई राज्‍यों में लड़कियों की संख्‍या में वृद्धि हुई है। डॉ कुमार ने राष्‍ट्रीय पोषण मिशन के बारे में भी बात की और कहा कि कुपोषण एक ब‍ड़ी समस्‍या है और राष्‍ट्रीय पोषण मिशन से एक ऐसे भारत का निर्माण होगा जिससे कोई बच्‍चा कुपोषित ना रहे। इसके अलावा केन्‍द्रीय मंत्री डॉ कुमार ने वन स्‍टॉप सेंटर का उल्‍लेख किया। जिसका उद्देश्‍य पीडि़त महिलाओं को कानूनी, स्‍वास्‍थ्‍य और अन्‍य सहायता प्रदान करना है।