मतदान आपकी जिम्मेदारी, ना मज़बूरी है। मतदान ज़रूरी है।

स्कूलों के निरीक्षण को हरदोई पहुंचे डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा, जाँच में नहीं हुई नकल की पुष्टि

                 डिप्टी सीएम डा. दिनेश शर्मा आज हरदोई पहुंचे। डिप्टी सीएम के आने की खबर से प्रशासन में हड़कंप मच गया। जिले की पुलिस लाइन में डिप्टी सीएम का हेलीकॉप्टर उतरा तो उनके स्वागत के लिए डीएम पुलकित खरे, एसपी विपिन कुमार मिश्र के साथ अन्य अधिकारी व भाजपा नेता भी मौजूद रहे। डिप्टी सीएम को यहां गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया उसके बाद उनका काफिला स्कूलों की ओर रवाना हो गया।
                 प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने पिछली भाजपा सरकारों की तरह ही उत्तर प्रदेश बोर्ड की परीक्षाओं को नकलविहीन तथा पारदर्शी कराने का बीड़ा उठाया है। मंगलवार से शुरू उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद की परीक्षा में परीक्षा केंद्रों की निगरानी सीसीटीवी कैमरों से हो रही है। लेकिन अधिकारी लगातार केंद्रों का निरीक्षण कर रहे है । ऐसे में प्रदेश के डिप्टी सीएम तथा माध्यमिक व उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. दिनेश शर्मा भी परीक्षा को लेकर बेहद गंभीर है। हरदोई में डिप्टी सीएम ने बोर्ड परीक्षा के दूसरे दिन पहली पारी की परीक्षा का औचक निरीक्षण किया। हालांकि प्रशासन को रात को ही सूचना थी कि डॉ. दिनेश शर्मा आएंगे, जिसको लेकर तैयारियां कर ली गयीं थीं। डिप्टी सीएम ने शहर व गांव के कई परीक्षा केंद्रों का औचक निरीक्षण किया । उन्होंने कक्षाओं में भी जाकर छात्र-छात्राओं का हाल देखा ।
                   निरीक्षण के दौरान मीडिया से बात करते हुए डिप्टी सीएम ने कहा कि सूबे की योगी सरकार ने नकल माफियाओं को सख्त चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि अगर कहीं किसी तरह की कोई गड़बड़ी या नकल कराने या होने समेत कोई सूचना या मामला आता है तो जिम्मेदार लोगों को सीधे जेल जाना होगा। डिप्टी सीएम ने कहा कि सरकार नकल विहीन परीक्षा सम्पन्न कराने के लिए कृतसंकल्पित है। परीक्षा केन्द्र सीसीटीवी की निगरानी में है। सभी कैमरे काम भी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि किसी भी केंद्र पर शिकायत मिली तो सख्त कार्रवाई होगी। दिनेश शर्मा ने कहा कि सरकार की इस सख्ती का असर भी दिखाई पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि हरदोई को नकल के लिए बदनाम किया जाता रहा है लेकिन अब ऐसा नहीं है। यहां गड़बड़ी पर पहले ही अधिकारियों पर कार्यवाही की जा चुकी है। निरीक्षण निपटने के बाद प्रशासन ने भी राहत की सांस ली। अब मन्त्री महोदय को हरदोई में नकल नहीं मिली या दिखाई नहीं गयी इस पर कुछ कहना जल्दबाजी होगी । लेकिन शर्मा जी का यह कहना कि हरदोई को नकल के लिए बदनाम किया जाता रहा है अब ऐसा नहीं है संदिग्ध लगता है ।