कोथावाँ प्रा०वि० का हाल, बच्चों को दूध और फल नहीं दे रहे जिम्मेदार

हनुमानगढ़ी के दर्शन कर पत्रकारों ने की अयोध्या विकास की समीक्षा

● अयोध्या में सिंधी समाज ने आईना का किया सम्मान


■ सिद्धपीठ हनुमानगढ़ी के प्रेम मूर्ति कृष्णकांत दास जी ने राम नामी अंग वस्त्र से किया सभी पत्रकारों का सम्मान


अयोध्या दर्शन और अयोध्या में सरकार द्वारा किए जा रहे विकास कार्यों की समीक्षा के लिए लखनऊ से चले ऑल इंडिया न्यूज पेपर एसोसिएशन के पत्रकार दल के लिए मंगलवार का दिन शुभ और ऐतिहासिक रहा । जहां निरंतर हनुमत कृपा की बरसात से दल के समस्त पत्रकार ओतप्रोत रहे। कभी ना भूल पाने वाली है ऐतिहासिक यात्रा सभी के मानस पटल पर अमिट छाप छोड़ गई।

आईना का यह दल प्रदेश अध्यक्ष शेखर पंडित के नेतृत्व में लखनऊ से निकला। 21 सदस्यों का यह दल अयोध्या के विकास की समीक्षा पर था। अयोध्या पहुंचने पर मंडल अध्यक्ष करुणा करण शुक्ला और जिला अध्यक्ष श्यामलाल के सौजन्य से एक कार्यक्रम के तहत अयोध्या के सिंधी समाज द्वारा आईना के सभी सदस्यों का सम्मान किया गया, और संगठन को राम मंदिर प्रतीक स्मृति चिन्ह स्वरूप भेंट देकर सम्मानित किया गया। सिंधी समाज के नेतृत्व कर रहे सिंधी अकादमी के पूर्व राज्य मंत्री अमृत राजपाल और वहां के समाजसेवी पवन जीवानी , सुनील मध्यान, शैलेंद्र राजपाल, प्रमुख रूप से उपस्थित रहे, अमृत राजपाल ने अपने संबोधन में आईना संगठन के कार्यों की सराहना करते हुए अयोध्या के विकास और वहां की समस्याओं से अवगत कराया। आईना के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ मोहम्मद कामरान ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा “आईना देख कर इंसान खुद के चरित्र को एक आदर्श बना सकता है । आईना ही एक ऐसा आपका दर्पण है जो आपके प्रतिबिंब और आपकी समस्त मनोदशा को दर्शाता है।”

प्रदेश के सचिव संतोष ने संगठन की ओर से सभी का परिचय कराया और अयोध्या से जुड़े पत्रकार बंधुओं और सिंधी समाज को लखनऊ आने के लिए आमंत्रित किया। और प्रदेश में समस्त जिलों में संगोष्ठी कराए जाने का प्रस्ताव भी रखा।

समस्त पत्रकारों द्वारा सिद्ध पीठ हनुमान गढ़ी के भव्य और अलौकिक दर्शन प्रभु कृपा से हुए। सिद्ध पीठ हनुमान गढ़ी के प्रेम मूर्ति कृष्णकांत दास जी ने सभी पत्रकारों को रामनामी अंग वस्त्र उढा कर श्री राम के आदर्श और उनके वात्सल्य से अवगत कराते हुए प्रसाद दिया।

यह सत्य है की हनुमानगढ़ी के मंदिर में स्वयं साक्षात प्रभु हनुमान जी विराजमान हैं। दर्शनों उपरांत हनुमानगढ़ी में जो आशीर्वाद मिला वह सभी को एक सुखद अहसास से अभिभूत कर गया। अयोध्या की पावन धरा पर महंत जी द्वारा सभी का सम्मानित किया जाना एक ईश्वरीय कृपा ही समझी जा रही है , क्योंकि यह सब पूर्व नियोजित नहीं था और ना ही किसी का कोई प्रभावी व्यक्तित्व था।

अयोध्या यात्रा पर एक खास बात जरूर देखने को मिली 2 वर्ष के करोना काल में सभी ने दूरियां बना ली थी, कहीं भी किसी से मिलना जुलना नहीं हो पा रहा था। इस काल में हमारे बहुत से पत्रकार साथी हमसे बिछड़ गए जिसमें आईना संगठन को भी भारी क्षति हुई। लेकिन अयोध्या की इस यात्रा ने एक दूसरे से दूरी बनाएं रखने का भय दूर कर दिया । यह यात्रा आजादी, स्वच्छंदता, आत्मीयता से ओतप्रोत होकर तल्लीनता के साथ परस्पर एक-दूसरे स्नेहिल भावों को समझते हुए, रास्ते भर अपनी अभिव्यक्ति और उद्गार प्रकट करते हुए गीत ग़ज़ल और नृत्य से पूरी हुई। जहां इस यात्रा ने एहसास ही नहीं होने दिया हम सब कब अयोध्या पहुंच गए। और यह सब सिर्फ और सिर्फ हनुमत कृपा से ही संभव हो सका । यह यात्रा हम सभी की स्मृतियों के पटल पर सुखद संयोग के साथ अमिट है।

अजय कुमार वर्मा
राष्ट्रीय महासचिव
ऑल इंडिया न्यूज़ पेपर एसोसिएशन