सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

पितृपक्ष-अमावस्या पर गोमती किनारे पितृ-तर्पण व 11000 दीपदान का महाआयोजन

लखनऊ : वतन के लिए अपने प्राणों का बलिदान देने वाले हमारे वीर जवानों, आजादी की लड़ाई में अपना जीवन निछावर करने वाले हमारे पूर्वज, बटवारे के वक्त कत्ल किए गए लाखो सनातनी के साथ उन हजारों कश्मीरी ब्राह्मण जिनके सर कलम कर दिए गए।

वीर जवानों, कश्मीरी ब्राह्मण व जाने-अनजाने पूर्वजों, बुजुर्गो की आत्मशांति के लिए पितृ तर्पण व 11000 दीपदान महाआयोजन।

गौरतलब है कि आज बहुत बड़ी संख्या में ऐसे कश्मीरी ब्राह्मण, जिनके परिवार में उनका पिंडदान-तर्पण करने वाला कोई नहीं बचा, अपने जाने-अनजाने पूर्वजों, बुजुर्गो की आत्मशांति व उनका आशीर्वाद प्राप्ति के लिए पितृ-तर्पण व 11000 दीपदान का सनातन परंपरा अनुसार, राजधानी लखनऊ के गोमती तट पर एक बड़ा आयोजन जिसमें हजारों लोगों ने दीप दान किया।

रविवार 25 तारीख को पितृपक्ष अमावस्या के दिन शाम को उपासना/ यज्ञ स्थल, झूलेलाल वाटिका, गोमती तट पर यह महाआयोजन, श्री ठाकुर जी मंदिर ट्रस्ट के तत्वाधान में मां पीताम्बरा 108 कुंडीय महायज्ञ समिति द्वारा पूज्य अनंत श्री विभूषित दंडी सन्यासी श्री रामाश्रम जी महाराज के सानिध्य में आयोजित हुआ।

इस महाआयोजन में मंत्री स्वतंत्र देव, पूर्व मंत्री अशोक बाजपेई के साथ बड़ी संख्या में दूर दूर से आए लोगों ने भाग लिया।

शाश्वत तिवारी