संजय सिंह, सांसद, आप ने पेयजल एवं स्वच्छता मिशन पर उठाए सवाल! | IV24 News | Lucknow

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जनपद बदायूं अशोक कुमार त्रिपाठी द्वारा पुलिस लाइन में महात्मा गांधी व लाल बहादुर शास्त्री के चित्र पर माल्यार्पण कर दिलायी गयी शपथ


02 अक्टूबर 2019 को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्री अशोक कुमार त्रिपाठी , अपर पुलिस अधीक्षक नगर/ग्रामीण व क्षेत्राधिकारी उझानी द्वारा पुलिस लाइन में महात्मा गांधी जी के 150वीं जयंती के पावन अवसर पर गाँधी जी तथा पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी के छाया चित्र पर माल्यार्पण कर पुष्प अर्पित किये गये । साफ सफाई अभियान के तहत महोदय द्वारा मौजूद समस्त पुलिस कर्मियों को स्वच्छता को लेकर निर्देशित किया गया । पुलिस कार्यालय पर अपर पुलिस अधीक्षक नगर जितेन्द्र श्रीवास्तव, क्षेत्राधिकारी नगर राघवेन्द्र सिंह राठौर द्वारा गांधी जी के छायाचित्र पर माला अर्पित की गयी । पुलिस कार्यालय मे मौजूद पुलिस कर्मियों द्वारा गांधी जी के छायाचित्र पर पुष्प अर्पित किये गये तथा जनपद के समस्त थानों मे भी गांधी जयंती मनायी गयी । गांधी जी के आदर्शों से अवगत कराया गया पूरे विश्व में इस दिन को अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस के रुप में भी मनाया जाता है । भारतीय स्वतंत्रता में उनके योगदानों और महात्मा गाँधी के यादगार जीवन को समाहित करता है इन्होंने अपना पूरा जीवन देश के लिये समर्पित कर दिया जो आज के आधुनिक युग में भी लोगों को प्रभावित करता है ।
हम लोग हमेशा बापू को शांति और सच्चाई के प्रतीक के रुप में याद करेंगे । उन्होंने अपने पूरे जीवनभर बड़े-बड़े कार्य किये । वह एक वकील थे और उन्होंने अपनी कानून की डिग्री इंग्लैंड से ली और वकालत दक्षिण अफ्रीका में किया। “सच के साथ प्रयोग” के नाम से अपनी जीवनी में उन्होंने स्वतंत्रता के अपने पूरे इतिहास को बताया है । जब तक की आजादी मिल नहीं गयी वह अपने पूरे जीवन भर भारत की स्वतंत्रता के लिये अंग्रेजी शासन के खिलाफ पूरे धैर्य और हिम्मत के साथ लड़ते रहे । गाँधी जी “सादा जीवन, उच्च विचार” सोच के व्यक्ति थे जिसको एक उदाहरण के रुप में उन्होंने हमारे सामने रखा । वे सच्चाई और अहिंसा के पथ-प्रदर्शक थे जिन्होंने भारत की आजादी के लिये सत्याग्रह आंदोलन की शुरुआत की । यह उत्सव हमारे लिये बहुत मायने रखता है । उनके कार्य बहुत महान थे जिसको पूरे विश्व में फैलने से कोई नहीं रोक सका । वह एक ऐसे व्यक्ति थे जो ब्रिटिश शासन से अहिंसा के मार्ग पर चलकर भारत को आजादी दिलाने में भरोसा रखते थे । वह अहिंसा के पथ-प्रदर्शक थे, उनके अनुसार ब्रिटिश शासन से आजादी प्राप्त करने का यही एकमात्र असरदार तरीका है । बापू एक महान स्वतंत्रता सेनानी थे जिन्होंने भारत की आजादी के संघर्ष में अपना पूरा जीवन दे दिया ।