ब्लॉक कोथावां में वोटर लिस्टों की बिक्री के नाम पर हो रही अवैध वसूली

प्राथमिक विद्यालय में किसानों ने बंद किए आवारा गोवंश

कछौना (हरदोई)- खेतों में फसल बर्बाद कर रहे आवारा पशुओं के प्रति किसानों का आक्रोश अब दिखने लगा है।गुरुवार को ऐसा ही एक मामला विकासखंड कछौना की ग्राम पंचायत महरी के उपग्राम महमूदपुर में हुआ जहाँ ग्रामीणों ने आवारा पशुओं से तंग आकर उन्हें गांव में ही स्थित प्राथमिक विद्यालय में बंद कर विरोध प्रदर्शन करना शुरू कर दिया।

प्रदर्शन कर रहे किसानों ने बताया कि वो आवारा पशुओं से आजिज आ चुके हैं। रात रात भर आवारा पशुओं से फसल बचाने के लिए ठंड में खेतों की रखवाली करना पड़ रहा है। जहाँ प्रदेश सरकार ने 10 जनवरी तक आवारा पशुओं को पकड़ने का निर्देश दिया था वहीं प्रशासन केवल खानापूर्ति कर अपने कर्तव्यों से इतिश्री कर रहा है। चारागाहों व काँजी हाउस पर लोगों का अवैध कब्जा कायम है। पशुपालन की तमाम योजनाएं सिर्फ कागजों पर संचालित हो रही हैं।

एंटी भू माफिया अभियान भी चारागाह खाली कराने में नाकामयाब रहा है। किसानों ने दर्जनों बार पुलिस प्रशासन, राजस्व प्रशासन व जनप्रतिनिधियों को इस ज्वलंत समस्या के बारे में अवगत कराया परंतु किसी ने किसानों के इस दर्द को समझना मुनासिब नहीं समझा। आवारा पशुओं से दर्जनों किसान चोटिल हो चुके हैं। गांव से बाहर निकलना किसानों के लिए एक बड़ी मुसीबत है । पता नहीं कब कौन इन जानवरों के चपेट में आ जाए और वह अपने जीवन से हाथ धो बैठे। किसानों ने बताया कि गोशाला खोलने वाली बातें केवल कागजों तक ही सीमित हैं। किसानों के साथ छलावा किया जा रहा है।


सारी समस्याओं से आजिज आकर किसानों ने सैकड़ों आवारा पशुओं को बृहस्पतिवार को प्राथमिक विद्यालय महमूदपुर में लाकर ताला बंद कर दिया।जानवरों के कारण विद्यालय में बच्चों की शिक्षा व्यवस्था भी प्रभावित हो गई।विद्यालय पहुंचे प्रधानाध्यापक भी विद्यालय की स्थिति देखकर दंग रह गए।जिस पर उन्होंने अपने विभागीय अधिकारियों व पुलिस प्रशासन को सूचना दी।सूचना मिलने पर थानाध्यक्ष बघौली अपनी पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंच कर गेट का ताला खोलकर आवारा पशुओं को मुक्त कराया।इस दौरान पुलिस व किसानों की आपस में काफी नोकझोंक भी हुई।किसानों ने अपनी इस समस्या को लेकर जिलाधिकारी, जनप्रतिनिधियों को भी अवगत कराया है।जहां से जल्द ही समस्या से निजात दिलाने का आश्वासन दिया गया है।

url and counting visits