संजय सिंह, सांसद, आप ने पेयजल एवं स्वच्छता मिशन पर उठाए सवाल! | IV24 News | Lucknow

धारा ३७०’ पर राजनाथ सिंह का कायरतापूर्ण उत्तर

डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय-


२० मई, २०१८ ई० को ‘इण्डिया टी० ह्वी०’ चैनल पर ‘आपकी अदालत’ कार्यक्रम के अन्तर्गत देश के गृहमन्त्री राजनाथ सिंह पर मुक़द्दमा चलाया गया था; परन्तु प्रत्येक प्रश्न का उनका उत्तर थका-हारा था। इतना ही नहीं, राजनाथ सिंह की शरीर की भाषा भी प्रश्न-प्रतिप्रश्नों से दुर्बल नज़र आ रही थी। सेना के एक पूर्व-अधिकारी ने जम्मू-कश्मीर में लादी जा रही केन्द्र-सरकार चलानेवालों की राष्ट्रघाती नीति पर करारा प्रहार किया था, जिसको टालने के अन्दाज़ में राजनाथ सिंह ने तर्कहीन उत्तर दिया था। एक अन्य दर्शक ने आक्रामक रूप में उनके प्रधानमन्त्री की उस घोषणा को याद कराया था, जिसमें किसानों की दशा और दिशा सुधारने के लिए तरह-तरह के लुभावने वायदे किये गये थे और जो अभी तक पूरे नहीं किये गये हैं। इस पर राजनाथ सिंह को उनके उत्तर ने ही पराजित कर दिया था।

आपकी अदालत’ में एक दर्शक ने प्रश्न किया था : आप कश्मीर से ३७० कब हटायेंगे?
इस पर राजनाथ सिंह का ‘दो टूक’ उत्तर सुनिए, ” मैं इस पर कुछ नहीं कहूँगा। मैं कुछ नहीं बोलूँगा।”

नारी-सुरक्षा को सबल बनाने, नारी-स्वाभिमान की रक्षा करने का नारा लगानेवाले उनके प्रधान मन्त्री नरेन्द्र मोदी की पोल खोलनेवाला प्रश्न ‘नारी-सुरक्षा’ की पूर्णत: असफलता को लेकर था, जिसका राजनाथ सिंह सामना नहीं कर पाये।

पेट्रोल-डीजल की बढ़ती महँगाई और जब अन्तरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल के दाम में बहुत कमी आयी थी तब भी मूल्य बढ़ाये जाते रहे, जबकि मूल्य में बहुत कमी आनी चाहिए थी। ऐसा क्यों?
इस प्रश्न पर राजनाथ सिंह बग़ले झाँकते नज़र आये थे।
उक्त तथ्यों के आधार पर ऐसे गृहमन्त्री की दायित्व-भावना और कर्त्तव्यपरायणता को समझते हुए, आप पूर्णांक १० में से राजनाथ सिंह को कितना/ कितने अंक देना चाहेंगे?

(सर्वाधिकार सुरक्षित : डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय, इलाहाबाद; २० मई, २०१८ ई०)