सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

हिन्दी कविता : ख़्वाहिश

ख्वाहिश है मेरी उड़ने की
मुझे गिरना न सिखाइए।
ख्वाहिश है मेरी मोहब्बत की
मुझे नफ़रत न सिखाइए।
ख्वाहिश है मेरी जीतने की
मुझे हारना न सिखाइए।
ख्वाहिश है मेरी मुस्कुराने की
मुझे रुलाना न सिखाइए।
ख्वाहिश है मेरी जीने की
मुझे मरना न सिखाइए।
ख्वाहिश है मेरी दिल लगाने की
मुझे दिल बहला न सिखाइए।
ख्वाहिश है मेरी तेरे साथ रहने की
मुझे दूर रहना न सिखाइए।

राजीव डोगरा
(भाषा अध्यापक)
गवर्नमेंट हाई स्कूल ठाकुरद्वारा
कांगड़ा, हिमाचल प्रदेश