संजय सिंह, सांसद, आप ने पेयजल एवं स्वच्छता मिशन पर उठाए सवाल! | IV24 News | Lucknow

भारत ने श्रीलंका को टी-20 के पहले मैच में हराया

★समीक्षक– आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय

भारतीय क्रिकेट-दल ने श्रीलंका के दल को टी-20 क्रिकेट के पहले मैच में पराजित कर, तीन मैचों की शृंखला में १-० से अग्रता अर्जित कर ली है। शिखर धवन के नेतृत्व में २५ जुलाई को श्रीलंका के ‘प्रेमदासा स्टेडियम’ में खेले गये अपने पहले ही मुक़ाबले में भारतीय दल ने बेहतरीन बल्लेबाज़ी और गेंदबाज़ी करते हुए श्रीलंका को ३८ रनों से पराजित कर शृंखला पर अपनी मनोवैज्ञानिक पकड़ बना ली है।

टॉस जीतकर श्रीलंका ने पहले क्षेत्ररक्षण करने का फ़ैसला लेते हुए, भारत को बल्लेबाज़ी करने के लिए आमन्त्रण किया था। भारतीय बल्लेबाज़ों ने शानदार प्रदर्शन करते हुए, निर्धारित २० ओवरों में ५ विकेटों पर १६४ रन बना लिए थे। पृथ्वी शॉ ने निराश किया। वे पहली ही गेंद पर आऊट (गोल्डेन डक) हो गये, जबकि उनका यह ‘मैच में प्रवेश’ (डेब्यू मैच) था। उदीयमान विस्फोटक बल्लेबाज़ सूर्यकुमार यादव ने ३४ गेंदों में ५० रन, शिखर धवन ने ३६ गेंदों में ४६ रन तथा संजू सैम्सन ने २० गेंदों में २७ रन बनाकर श्रीलंका के सामने चुनौती पेश की थी। श्रीलंका की ओर से दुश्मन्था चमीरा और वानीडु हसरंगा ने २-२ विकेट लिये थे, जबकि चमिका करुणारत्ने ने १ विकेट लिया था।

चुनौती आसान नहीं थी; क्योंकि श्रीलंका के बल्लेबाज़ों को प्रति ओवर ८ रन से अधिक बनाने थे। भारत की तीव्र गेंदबाज़ भुवनेश्वर कुमार की प्रभावकारी गेंदबाज़ी के सम्मुख श्रीलंका बल्लेबाज़ी प्रभावहीन दिखी थी। चरित असलंका ने जीवटता का परिचय देते हुए, मात्र २६ गेंदों में ४४ रन बनाकर प्रभावपूर्ण प्रदर्शन किया था। अविष्का फर्नाण्डो ने २३ गेंदों पर २६ रन बनाये थे। इस प्रकार जीत के लिए १६५ रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए, श्रीलंका के सभी खिलाड़ी १८.३ ओवरों में मात्र १२६ रन बनाकर आऊट हो चुके थे। भारत की ओर से भुवनेश्वर कुमार ने केवल ३.३ ओवरों में २२ रन देकर श्रीलंका के ४ खिलाड़ियों को पैवेलियन का रास्ता दिखा दिये थे। दीपक चहर/चाहर ने २ विकेट और कुणाल पण्ड्या-हार्दिक पण्ड्या, युजवेन्द्र चहल तथा पहली बार अन्तरराष्ट्रीय मैच खेल रहे वरुण चक्रवर्ती ने १-१ विकेट लिये थे। इस प्रकार भारत ने श्रीलंका को एक बड़े अन्तर से पराजित कर, क्रिकेट-पण्डितों की आशंकाओं पर ‘तुषारपात’ (‘तुषारापात’ अशुद्ध है।) कर दिया है।

(सर्वाधिकार सुरक्षित– आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय, प्रयागराज; २६ जुलाई, २०२१ ईसवी।)