विवादास्पद ‘करौली सरकार आश्रम’ मे हत्या का संदिग्ध प्रकरण; दोषी कौन?

● आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय

आज (१ मई) कुछ देर पहले विवादास्पद साधु-संत संतोष भदौरिया उर्फ़ ‘करौली बाबा’ के कानपुर-स्थित आश्रम ‘करौली सरकार आश्रम’ के एक कक्ष मे ग्रेटर नोएडा के ‘प्रापर्टी डीलर’ ५६ वर्षीय देवेन्द्र सिंह भाटी की मृत्यु हो गयी है।

विश्वस्त सूत्रों ने बताया है कि देवेन्द्र सिंह भाटी तीन दिनो पहले उक्त आश्रम पहुँचे थे। उनका कक्ष बहुत देर तक नहीं खुला तब वहाँ सेवादार पहुँचे; दरवाज़ा भीतर से बन्द बताया जा रहा था और यह भी कि मृतक का शरीर बिस्तर पर औंधे मुँह पड़ा हुआ था। उस आश्रम मे मीडिया का प्रवेश प्रतिबन्धित कर दिया गया है तथा आश्रम के सेवादार आदिक भाग खड़े हुए हैं। इससे घटना-विषयक कई प्रश्न उठ खड़े हुए हैं तथा विवादास्पद करौली बाबा की भी भूमिका संदेह के घेरे मे दिखने लगी है।

पुलिस ने शव को लेकर ‘अन्त्य परीक्षण’ (पोस्टमॉर्टम) के लिए भेज दिया है।

स्मरणीय है कि वह वही आश्रम है, जिसके स्वामी संतोष भदौरिया उर्फ़ ‘करौली बाबा’ के संकेत पर उसके बाउंसरों ने नोएडा-स्थित एक चिकित्सक डॉ० सिद्धार्थ चौधरी पर प्राणघातक हमला किया था।

फ़िलहाल, प्रथम दृष्टि मे यह प्रकरण संदिग्ध बन चुका है। मृतक के स्वजन ने ‘हत्या’ होने की आशंका जतायी है।
खेद है, देश के सभी समाचार-चैनल अभी तक इस विषय पर मौन हैं।

◆ चित्र-विवरण– संतोष भदौरिया उर्फ़ ‘करौली बाबा’।
(सर्वाधिकार सुरक्षित― आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय, प्रयागराज; १ मई, २०२३ ईसवी।)