कोथावाँ प्रा०वि० का हाल, बच्चों को दूध और फल नहीं दे रहे जिम्मेदार

कछौना चौराहे से ईदगाह तक जर्जर गौसगंज मार्ग व दोनों तरफ अधूरे नाले का जीर्णोद्धार कराने की माँग, जय हिंद जय भारत मंच ने उठायी आवाज़

कछौना (हरदोई): लखनऊ-हरदोई मार्ग के कछौना चौराहे से गौसगंज मार्ग पर चौराहे से ईदगाह तक मार्ग का निर्माण का कुछ हिस्सा निर्माण कार्य के लिए अधूरा पड़ा है। वर्तमान में इस मार्ग की हालत काफी जर्जर है। जगह-जगह गड्ढे होने के कारण राहगीरों को चलना दुष्कर है।

एक दशक पूर्व जल निकासी हेतु सड़क के दोनों किनारे नाला निर्माण कराया गया था, जो मानक के अनुकूल निर्माण न होने के कारण अधूरा पड़ा है। जगह-जगह नाला टूटा पड़ा है। जिस पर कई भवन स्वामियों ने अवैध कब्जा का अतिक्रमण कर रखा है। नाला के जलभराव को अवरोध कर दिया गया है। इस छूटे के हिस्से का निर्माण व नाला का जीर्णोद्धार कराने की मांग जय हिंद जय भारत मंच ने शासन प्रशासन से दिए गए पत्रों में बताया, इस मार्ग से सैकड़ों गांवों के राहगीरों का आवागमन प्रतिदिन रहता है। इस मार्ग पर कई डिग्री कॉलेज, इंटर कॉलेज व स्कूल स्थित हैं। सबसे ज्यादा नौनिहालों को प्रतिदिन आवागमन में परेशानी उठानी पड़ रही है। गड्ढे में गिर कर आए दिन राहगीर चोटहिल होते हैं। दोनों तरफ नाला अपूर्ण होने के कारण घरों का पानी सड़क पर बहता है। गड्ढों में पानी भरे होने के कारण गहराई का अंदाजा न होने के कारण आए दिन वाहन पलट जाने से यात्री चोटहिल होते हैं।

निवर्तमान सांसद अंजू बाला ने इस मार्ग का निर्माण प्रधानमंत्री सड़क ग्राम योजना के तहत कराया था। परंतु यहां कछौना चौराहे से ईदगाह तक एक किलोमीटर भाग छूट गया था। यह छूटा हिस्सा लोक निर्माण विभाग बिलग्राम खंड के अंतर्गत आता है। स्थानीय नागरिकों द्वारा सड़क का जीर्णोद्धार व नाला निर्माण के लिए शासन प्रशासन, जनप्रतिनिधियों से लगातार मांग की जा रही है, जिम्मेदारों की अनदेखी से समस्या जस की तस बनी है। सबसे ज्यादा गर्भवती महिलाओं और बुजुर्गों को आवागमन में परेशानी उठानी पड़ती हैं। जिसका खामियाजा आम जनमानस को उठाना पड़ रहा है। जिम्मेदारों की अनदेखी की कीमत आम जनमानस को जान की कीमत देकर चुकानी पड़ रहीं है। इस मार्ग पर सड़क के दोनों तरफ अतिक्रमण के कारण जगह-जगह कूड़े के ढेर, नाले की समुचित सफाई व्यवस्था व जर्जर नाला होने के कारण जल निकासी न होने के कारण गंदगी का अंबार है। जिसकी वजह से मच्छर पनप रहे हैं। संक्रामक बीमारी फैलने की प्रबल संभावना है। समस्या का निराकरण न होने के कारण स्थानीय नागरिकों सहित ग्रामीण क्षेत्र के लोगों में काफी आक्रोश है। सड़क खराब होने के कारण कस्बे के व्यापारियों के व्यवसाय पर भी असर पड़ रहा है। जहां एक तरफ सरकार गड्ढा मुक्त अभियान चलाकर कागजों पर फील गुड करा रही है, लेकिन जमीनी स्तर सड़कों की हालत काफी दयनीय है।

जय हिंद जय भारत मंच ने इस छूटे हिस्से का जीर्णोद्धार व दोनों तरफ नाला का जीर्णोद्धार व सफाई व्यवस्था युद्ध स्तर पर कराने की मांग जिला प्रशासन से की। जिससे नागरिकों को राहत मिल सके।

रिपोर्ट – पी०डी० गुप्ता