ब्लॉक कोथावां में वोटर लिस्टों की बिक्री के नाम पर हो रही अवैध वसूली

तुमसे प्यार नहीं कर पाऊंगा

प्रांशुल त्रिपाठी, रीवा, म०प्र०

तुम डिजिटल युग की लड़की
मैं गांव के संस्कारों का बादशाह हूँ
तुम बुलेट से कॉलेज आने वाली
मैं तो अपनी साइकिल का ही आदि हूँ
तुम जाम शकीला पीने वाली
मैं तो अपने मट्ठा में ही राजी हूँ
तुम डिजिटल युग की लड़की
मैं गांव के संस्कारों का बादशाह हूँ
तुम मोबाइल से मैसेज लिखती हूँँ
मैं अभी भी पोस्ट कार्ड पर लिखने वाला
तुम हाइलोजन से जलने वाली
और मैं दीपक का एक छोटा सा टुकड़ा हूँ
तुम डिजिटल युग की लड़की
मैं गांव के संस्कारों का बादशाह हूँ
तुम इटली की महारानी जैसी
मैं अभी भी पंडित जी का लड़का हूँ
तुम अंग्रेजी झाड़ने वाली
मैं शुद्ध बघेली छाप हूँ
तुम उची हील पहनकर चलने वाली हो
मैं खड़ाहूं धारण करने वाला हूूँ
तुम डिजिटल युग की लड़की
मैं गांव के संस्कारों का बादशाह हूूँ
तुम हाय बाय करने वाली
मैं सदा बड़ों का पैर छूता हूँँ
तुम मम्मी को मोम और
पापा को पाप बताती हो
मैं उनके चरणों को ही
अपनी जन्नत समझता हूँ ।

url and counting visits