मतदान आपकी जिम्मेदारी, ना मज़बूरी है। मतदान ज़रूरी है।

सावधान! सड़क के गड्ढे राहगीरों को कई वर्षों से दे रहे दर्द

कछौना, हरदोई। सड़कों को गड्ढा युक्त करने के लिए सरकार के दावों को मुंह चिढ़ा रही लखनऊ पलिया मार्ग से दलेलनगर मार्ग खतरनाक गड्ढों में तब्दील हो गई है। जिसमें हमेशा जलभराव बना रहता है। इस मार्ग से कई ग्रामों के ग्राम वासियों को का आवागमन का मुख्य मार्ग है। इस मार्ग की दुर्दशा को सही कराने हेतु जिला पंचायत सदस्य ने दर्जनों बार शासन प्रशासन को अवगत कराया, परंतु किसी ने सुध नहीं ली।

मालूम हो कि इस मार्ग से क्षेत्र के सैकड़ों लोगों का तहसील व जिला मुख्यालय को आवागमन रहता है। यह मार्ग लखनऊ पलिया मार्ग से हरदासपुर, दलेलनगर, इनायतपुर, भगवंतपुर, अटवा, फरेदा, चंदपुर, मल्हेरा के ग्रामीणों का आवागमन का मुख्य साधन है। यह मार्ग लोक निर्माण विभाग के अंतर्गत आता है। इसकी दूरी लगभग 10 किलोमीटर है। इस मार्ग पर कई इंटर कॉलेज, डिग्री कॉलेज व परिषदीय विद्यालय स्थित है। हजारों की संख्या में प्रतिदिन क्षेत्रीय लोगों का आवागमन रहता है। इन गड्ढों में गिरकर छात्र चुटहिल हो चुके हैं। इस समस्या के विषय में सिया राम सिंह, डॉ० सुमेर, पूर्व जिला पंचायत सदस्य जयप्रकाश वर्मा, परशुराम चौरसिया जिला पंचायत सदस्य ने दर्जनों बार सांसद, विधायक से सड़क की दुर्दशा के बारे में अवगत कराया, परंतु उन्होंने सुध लेना मुनासिब नहीं समझा। डामर पूरी तरह से उखड़ चुका है। गड्ढों की चपेट में आने से कोई न कोई राहगीर चुटहिल होता है। सबसे ज्यादा बुजुर्ग, घायल व गर्भवती महिलाओं को परेशानी उठानी पड़ती है। इन गड्ढों के कारण कई बार गर्भवती महिलाओं को प्रसव रास्ते में हो गया है। असहनीय पीड़ा के चलते जच्चा-बच्चा की जान चली गई है। कई दशक से यह मार्ग अपनी बदहाली पर आंसू बहा रही है। ग्रामीणों ने बताया समस्या का शीघ्र निराकरण नहीं किया गया, तो हम सब लोग कोर्ट की शरण में जाने को विवश है।

रिपोर्ट – पी०डी० गुप्ता